चिल्लाकेरे पर हल्ला क्यों?

विदेशी मीडिया का ख्याल है कि भारत चिल्लाकेरे में अपनी गोपनीय न्यूक्लियर सिटी बना रहा है, जहां परमाणु अस्त्र-शस्त्र, यूरेनियम परिशोधन, शोध औऱ राकेट संबंधी नए काम होंगे। भारत ने इससे हमेशा इन्कार किया है। हां, ये बात सही है कि चिल्लेकेरे में एक साथ देश के चार शीर्ष साइंस संस्थानों के बनाए जाने का काम शुरू हुआ है। चारों एक दूसरे से सटा कर बनाए जा रहे हैं। चारों इस तरह बनाए जा रहे हैं कि उनमें भविष्य में काम शुरू होने के बाद पुख्ता तालमेल रहे ताकि देश की विज्ञान औऱ शोध संबंधी भविष्य की जरूरतों को तेजी से न केवल पूरा किया जा सके बल्कि देश को मजबूती भी दी जा सके।

Be the first to comment

Leave a Reply