हॉलीवुड से कहां है पीछे!

भारत में फिल्मों का कारोबार 20 हजार करोड़ रुपए के आसपास माना जाता है। अमेरिका में यह चार गुना ज्यादा है। वहां साल में बनती है चार सौ फिल्में। भारत में पिछले पचास साल से हर साल एक हजार से ज्यादा फिल्में बन रही हैं। यह संख्या लगातार बढ़ रही है। 2005 में 1041 फिल्में आई थी। 2014 में यह आंकड़ा 1451 तक पहुंच गया। इतनी फिल्में तो किसी भी महाद्वीप के सभी देशों में मिल कर भी नहीं बन पातीं।

Be the first to comment

Leave a Reply