ये है बदलता संवरता उत्तराखण्ड

जरा गौर कीजिए, उत्तराखंड से जुड़ी खबरों का संसार कितनी तेजी से बदल रहा है। कल तक जो सुर्खियां कुर्सी की सियासत, घपले-घोटाले, खनन, शराब व जमीन के कारोबार में पनपते माफिया, कर्मचारियों के आंदोलन, मास्टरों और डाक्टरों की कमी का रोना, कमीशनखोरी, सड़क दुर्घटना और छोटे-मोटे अपराधों की खबरों से बनती थीं, अब वो ‘जरायम’ की दुनिया से जुड़ी गैरकानूनी गतिविधियों से बन रही हैं। मानव अंगो की तस्करी, नकली दवाइयों का कारोबार, ड्रग्स, हत्या, नकली नोट, नकली शराब, जिस्मफरोशी और ब्लैकमेलिंग से जुड़ी खबरें अब उत्तराखंड के खबरों के संसार में बड़ी दस्तक दे रही हैं।
दो-दो अंतर्राष्ट्रीय सीमाओं से लगे इस प्रदेश की स्थितियां भयावह हो चुकी हैं। जरायम से जुड़ी जिस तरह की खबरें सामने आ रही हैं वो इस प्रदेश की प्रकृति और प्रवृति और संस्कृति से मेल नहीं खाती।