नशे के खिलाफ हल्ला बोल

छत्तीसगढ़ मे महिलाओं ने संगठन बनाकर शराबबंदी की मुहिम तेज कर दी हैं। जबकि सरकार ने इस साल तीन हजार करोड़ रूपए राजस्व एकत्र करने का लक्ष्य रखा है। नशे की लत से परेशान होकर महिलाओं ने शराब की दुकानें बंद करने के लिए आमरण अनशन और भूख हड़ताल की तो प्रशासन ने सबको जेल भेज दिया। वहीं कुछ गांवों में अब शराब पीकर आने वालों के खिलाफ महिलाएं जुर्माना लगाने लगी हैं।

Be the first to comment

Leave a Reply