गांव का मैला आंचल

छत्तीसगढ़ को अगले साल दो अक्टूबर को खुले में शौचमुक्त राज्य घोषित करने का सरकार ने निर्णय लिया है। चैकाने वाली बात है कि घोषित कई जिले में खुले में शौच मुक्त की मुहिम फटे पोस्टर की तरह है। वहीं अब तक फाइलों में 91 फीसदी शौचालय राज्य में बनने के बाद भी गांव का आंचल मैला है। कई स्थानों पर अभी लोग खुले में शौच जाने को मजबूर हैं।