पर्यटन पर छेड़खानी का ग्रहण

नागपुर की दो लड़कियां ट्रैकिंग के लिए हिमाचल प्रदेश की तरफ निकली। वहां से लौट कर उन्होंने जो अपना अनुभव बताया वह बेहद डरावना था। ट्रैकिंग के दौरान उन्हें छोटे कस्बो में रुकना पड़ता था। टेंटो में रहना पड़ता था। उनके साथ में स्थानीय गाइड इतना ताकतवर था कि उसके रहते कोई आसपास फटकता नहीं था पर जैसे ही वह किसी काम से जाता था टेंट या ढाबों के आसपास लड़के मंडराने लगते थे।

Be the first to comment

Leave a Reply