रंगत खोती मॉल संस्कृति

भारत में खुदरा कारोबार अभी लगभग 470 अरब डॉलर का है, जिसमें सुपर मार्केट सहित समूचे संगठित क्षेत्र का हिस्सा महज 27 अरब डॉलर है, जो सात फीसदी से भी कम है और सात सबसे बड़े शहरों के मॉल्स में 21 फीसदी जगह खाली है। अन्य शहरों में तो हालात और भी ज्यादा खराब है। वहां के मॉल्स में एक-तिहाई से ज्यादा जगहें खाली पड़ी हैं और यह दायरा लगातार बढ़ रहा है।

Be the first to comment

Leave a Reply