बोमा, अरविंदो और विवाद

आखिर ऐसा क्या हुआ कि स्तंत्रता संग्राम का सबसे प्रखर योद्धा अरविंदो घोष योग का साधक बन गया। क्या स्वतत्रता संग्राम लड़ने वालों के चरित्र ने अरविंद को हताश कर दिया था ? इस झकझोर देने वाले सवाल का जवाब ब्रातमय बसु का नाटक बोमा देगा जो अगले महीने बंगाल में खेला जाना है । नाटक पर विवाद होना तय है क्योंकि नाटक महर्षि अरविंद जैसे व्यक्तित्व पर सवाल खड़ा करता है।

Be the first to comment

Leave a Reply